Hindi
Friday 21st of July 2017
code: 81081
इस्राईल और अरब का संयुक्त दुश्मन है ईरान।

अवैध राष्ट्र के पूर्व युद्धमंत्री मोशे यालून ने अमेरिकी चैनल सीएनएन को दिए इंटरव्यू में कहा कि अरब राष्ट्र और इस्राईल की समस्याएं एक जैसी हैं । हम एक ही नाव के मुसाफिर हैं हमारा एक ही दुश्मन है और वह है ईरान । पूर्व ज़ायोनी युद्ध मंत्री ने कहा कि हमारा शत्रु एक है वह इसलिए कि अरब राष्ट्र सुन्नी है और ईरान शिया, वह अलग अलग पंथ के हैं । ईरान से हमारी दुश्मनी इसलिए है कि ईरान हमे विश्व मानचित्र से मिटाना चाहता है । दूसरी बात यह कि अरब राष्ट्र मुस्लिम ब्रदरहुड के दुश्मन है जो फिलिस्तीन में प्रतिरोधी आंदोलन हमास का साथी है वह ग़ज़्ज़ा पट्टी में एक हैं जिसे हम हमासिस्तान कहते हैं और यह मिस्र के राष्ट्रपति अलसीसी को भी पसंद नहीं है इस लिए कहा जा सकता है कि हमास मुद्दे पर भी हमारे शत्रु समान हैं । आज के दौर में इस्राईल और अरब दुश्मनी और मतभेद नाम की कोई चीज़ नहीं है और यह प्रसन्नता की बात है ।

user comment
 

latest article

  ब्रिटेन, मस्जिद में लगाई आग।
  अमेरिका करेगा सऊदी अरब के इस्लामी कानून ...
  अमरीका, दाएश और अन्य आतंकी गुटों को ...
  सीरिया में अमरीकी गठबंधन का हमला, 10 ...
  लंदन, कैमडन मार्केट में भीषण आग।
  सऊदी सैनिकों का अलअवामिया पर हमला, 3 ...
  अमरीका ने बरसाए मूसेल पर बम, हज़ारों ...
  इस्राईल और अरब का संयुक्त दुश्मन है ईरान।
  क़तर पर सऊदी हमला पागलपन की निशानी।
  क़तर और ईरान के बीच नया समुद्री मार्ग ...