Hindi
Tuesday 30th of May 2017
Masoumeen

रमजान का महत्व।

قال رسول الله (صلى الله عليه و آله)لو يعلم العبد ما فى رمضان لود ان يكون رمضان السنةपैगम्बरे इस्लाम (स.) फ़रमाते हैं:अगर ख़ुदा का बंदा जान लेता कि रमजान में है (क्या बरकतें और क्या रहमतें हैं) तो पूरे ...

अली के शियों की विशेषता।

इमाम हसन अस्करी अलैहिस्सलाम फ़रमाते हैं कि अली अलैहिस्सलाम के शिया वह लोग हैं जो अपने भाईयों, बंधुओं को ख़ुद पर प्राथमिकता देते हैं चाहे उन्हें कितनी ही ज़रूरत क्यों न ...

अमीरुल मोमिनीन अली अलैहिस्सलाम का जीवन परिचय

नाम व अलक़ाब (उपाधियाँ)आपका नाम अली व आपके अलक़ाब अमीरुल मोमेनीन, हैदर, कर्रार, कुल्ले ईमान, सिद्दीक़,फ़ारूक़, अत्यादि हैं।माता पिताआपके पिता हज़रतअबुतालिब पुत्र हज़रत ...

इमाम बाक़िर अलैहिस्सलाम की अहादीस

आज मिले अवसर से लाभ उठाओ, कौन जाने "कल" किसका होगा।जिसकी ज़बान सच्ची होगी, उसका चरित्र पवित्र हो जाएगा।विनम्रता यह है कि अन्य लोगों से भेंट के समय उन्हें सलाम करो और बहस से ...

हज़रत फ़ातेमा ज़हरा स. बेहतरीन आदर्श

हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स. की फ़ज़ीलत व मरतबे को बयान करना इन्सान के बस में नहीं है। अगर कोई उनके मरतबे को देखना चाहता है तो उसे देखना चाहिए कि ख़ुदा और उसके रसूल की नज़र में आपका ...

हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स. की कुछ हदीसें।

हदीस (1) हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स. फ़रमाती हैंः "अगर रोज़ेदार, रोज़े की हालत में अपनी ज़बान, अपने कान और आँख और बदन के दूसरे हिस्सों की हिफ़ाज़त न करे तो उसका रोज़ा उसके लिए ...

हज़रत अली (अ.स.) की नज़र में हज़रते ज़हरा

शादी के अगले दिन जब पैगंबर ने अली (अ.स.) से पूछा:ऐ अली तुमने मेरी बेटी जहरा को कैसा पाया? इमाम ने जवाब दिया, फातिमा अल्लाह की इताअत में सबसे अच्छी मददगार ...

हज़रत फ़ातेमा ज़हरा स. बेहतरीन आदर्श

हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स. की फ़ज़ीलत व मरतबे को बयान करना इन्सान के बस में नहीं है। अगर कोई उनके मरतबे को देखना चाहता है तो उसे देखना चाहिए कि ख़ुदा और उसके रसूल की नज़र में आपका ...

जो शख्स शहे दी का अज़ादार नही है

क़सीदाजो शख्स शहे दी का अज़ादार नही हैवो जन्नतो कौसर का भी हक़दार नही है।जिसने न किया खाके शिफा पर कभी सजदासच पूछीये वो दीं का वफादार नही है।ये जश्ने विला शाहे शहीदां से है ...

किस नूर की मज्लिस में मिरी जल्वागरी है

किस नूर की मज्लिस में मिरी जल्वागरी हैजिस नूर से पुर-नूर ये नूर-ए-नज़री हैआमद ही में हैरान क़यास-ए-बशरी हैये कौन सी तस्वीर-ए-तजल्ली से भरी हैगो हुस्न का रुत्बा नहीं मज़कूर ...

हज़रत इमाम हसन अस्करी (स) के उपदेश

हज़रत इमाम हसन अस्करी अलैहिस्सलाम: मैं तुम्हें अल्लाह से डरने, धर्म में नैतिकता, सच्चाई के लिए कोशिश करने, जिसने तुम्हे अमानत सौंपी है चाहे वह भला व्यक्ति हो या बुरा, उसकी ...

दिलासा हुसैन है।

मज़लूम के लिये यूँ दिलासा हुसैन है।कटवाके सर जो जीतने वाला हुसैन है। सूखे गले को काट ना पाई सितम की धारबतला रही हैं आयतें जिन्दा हुसैन है। सज्दे को तूल दे दो हबीबे खुदा ...

सुंदरता।

इमाम हसन अस्करी (अ) फ़रमाते हैं कि चेहरे का सुन्दर होना विदित सुन्दरता है और बुद्धि व अच्छी सोच आंतरिक सुन्दरता है”।

पैग़म्बर स.अ. की भविष्यवाणी।

पैग़म्बरे इस्लाम(स) फ़रमाते हैं कि हमारे अनुयाई उस समय तक सुरक्षित रहेंगे जब तक वह अम्र बिलमारूफ और नही अनिलमुन्कर करते रहेंगे और भलाई तथा तक़वा अर्थात ईश्वरीय भय में एक ...

हक़ निभाना मेरे हुसैन का है,

हक़ निभाना मेरे हुसैन का है,दिल ठिकाना मेरे हुसैन का है।  जिसके साये में कायनात है सब,ऐसा नाना मेरे हुसैन का है।  जबसे घर में मेरे सजे है अलम,आना-जाना मेरे हुसैन का ...

सर्वोत्तम काम

हज़रत अली अलैहिस्सलाम: अम्र बिलमारूफ अर्थात अच्छाई का आदेश देना अल्लाह की सृष्टि का सर्वोत्तम काम है”

शहादते इमामे मूसा काज़िम

इमामे हफतुमी मूसीए काज़िम दिलबरे ज़हरावसीए सादिके आले नबी को ज़हर से मारामुकय्यद सत्तरह साल आप ज़िन्दा में रहे पैहममगर शिकवा बजुज़ जिक्रे खुदा लब तक नहीं आयानमाज़े पढ़ता था ...

नौहा

तुरबते बेशीर पर कहती थी माँ असग़र उठोकब तलक तन्हाई में सोओगे ऐ दिलबर उठोहै अंधेरा घर में नज़रों में जहाँ तारीक हैकब तलक पिन्हाँ रहोगे ए महे अनवर उठोहम सबों को कै़द करके ...

पैगम्बर अकरम (स.) का पैमाने बरादरी

पैगम्बर अकरम (स.) के असहाब के एक मशहूर गिरोह ने इस हदीस को पैगम्बर (स.) नक़्ल किया है।“ अख़ा रसूलुल्लाहि (स.) बैना असहाबिहि फ़अख़ा बैना अबिबक्र व उमर व फ़ुलानुन व फ़ुलानुन ...

फातेमा बिन्ते असद का आज दिलबर आ गया

फातेमा बिन्ते असद का आज दिलबर आ गयामोमिनो खुशियॉ मनाओ अपना रहबर आ गया इन्नमा की ले के मोहरे इस्मते परवरदिगारमुत्तलिब का पोता और ज़हरा का शौहर आ गया अज़दहे को चीरने, ...