Hindi
Thursday 18th of April 2024
0
نفر 0

इमाम महदी अलैहिस्सलाम की हुकूमत।

इमाम महदी अलैहिस्सलाम की हुकूमत।

सवालः इमाम ज़माना अलैहिस्सलाम की हुकूमत की शैली क्या होगी?
जवाब: जैसा कि हम सभी जानते हैं कि हज़रत इमाम महदी अलैहिस्सलाम पूरी दुनिया में इस्लाम का झंडा ऊंचा करने और कुरान की प्रभुसत्ता स्थापित करने के लिए प्रकट होंगे और इस बात में भी कोई शक नहीं है कि हज़रत इमाम महदी अलैहिस्सलाम की हुकूमत कुरान और पैगम्बरे अकरम (सल्लल्लाहो अलैहे व आलेही वसल्लम) की शैली के समान होगी।
हज़रत इमाम ज़माना अलैहिस्सलाम के शासन के बारे में मासूमीन अ. की बहुत सी रिवायतें मौजूद हैं कि जिनमें से कुछ विषयों पर चर्चा की जा सकती है।
किताब और सुन्नत मौलिक आधार
जब इमाम ज़माना अलैहिस्सलाम की हुकूमत स्थापित होगी तो उसमें सभी मामलों का आधार कुरान, सुन्नत और पैगम्बरे अकरम (सल्लल्लाहो अलैहे व आलिही वसल्लम) की शरीयत होगी और इमाम अलैहिस्सलाम अपनी पूरी ताक़त से अल्लाह तआला के आदेश को लागू करने की कोशिश करेंगे और किसी को इस बात की अनुमति नहीं देंगे कि उनके आदेश को रद्द करे और कानून तोड़े।
इस बारे में कई रिवायते मौजूद हैं जिन में से कुछ को उदाहरण के रूप में प्रस्तुत कर रहे हैं।
रसूले ख़ुदा (सल्लल्लाहो अलैहे व आलिही वसल्लम) ने फरमाया: महदी (अलैहिस्सलाम) मेरी संतान में से हैं, उसका नाम मेरा नाम, उसकी कुन्नियत मेरी कुन्नियत, उसकी शक्ल व विशेषताएँ मेरी शक्ल और विशेषताएँ और उसकी शैली मेरी शैली है। वह लोगों को मेरी शरीयत पर स्थापित रखेगा और उन्हें किताब अल्लाह की तरफ़ दावत देगा।
इमाम रेज़ा अलैहिस्सलाम फ़रमाते हैं कि वह (इमाम महदी अ.) लोगों के बीच न्याय स्थापित करेंगे और उनकी हुकूमत में कोई भी इंसान दूसरे पर अत्याचार नहीं करेगा।
पैगम्बर सअ. और अइम्मा अ. की सीरत के अनुसार व्यवहार।
रसूले ख़ुदा (सल्लल्लाहो अलैहे व आलेही वसल्लम) ने फरमाया: महदी (अलैहिस्सलाम) मेरी सीरत के अनुसार चलेंगे और कभी भी इस शैली को नहीं छोड़ेंगे।


source : www.abna.ir
0
0% (نفر 0)
 
نظر شما در مورد این مطلب ؟
 
امتیاز شما به این مطلب ؟
اشتراک گذاری در شبکه های اجتماعی:

latest article

मुहाफ़िज़े करबला इमाम सज्जाद ...
इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम की शहादत
पैगम्बर अकरम (स.) का पैमाने बरादरी
मासूमाऐ क़ुम जनाबे फातेमा बिन्ते ...
इमाम मूसा काज़िम (अ.ह.) के राजनीतिक ...
पैग़म्बरे इस्लाम स.अ. की वफ़ात
हक़ और बातिल के बीच की दूरी ??
बग़दाद में तीन ईरानी तीर्थयात्री ...
हज़रत इमाम जाफ़र सादिक़ ...
हज़रत अबुतालिब अलैहिस्सलाम

 
user comment