Hindi
Thursday 18th of April 2024
0
نفر 0

लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी

लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी



लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी

ज़िंदगी शम्अ की सूरत हो ख़ुदाया मेरी!


दूर दुनिया का मेरे दम से अँधेरा हो जाए!

हर जगह मेरे चमकने से उजाला हो जाए!


हो मेरे दम से यूँही मेरे वतन की ज़ीनत

जिस तरह फूल से होती है चमन की ज़ीनत


ज़िंदगी हो मिरी परवाने की सूरत या-रब

इल्म की शम्अ से हो मुझ को मोहब्बत या-रब


हो मिरा काम ग़रीबों की हिमायत करना

दर्द-मंदों से ज़ईफ़ों से मोहब्बत करना


मेरे अल्लाह! बुराई से बचाना मुझ को

नेक जो राह हो उस रह पे चलाना मुझ को

0
0% (نفر 0)
 
نظر شما در مورد این مطلب ؟
 
امتیاز شما به این مطلب ؟
اشتراک گذاری در شبکه های اجتماعی:

latest article

अज़ादारी परंपरा नहीं आन्दोलन है 1
हसद
विलायत पर हदीसे ग़दीर की दलालत का ...
सूरए आराफ़ की तफसीर 2
वहाबियत, वास्तविकता और इतिहास-10
पैग़म्बरे इस्लाम की निष्ठावान ...
वहाबियत, वास्तविकता और इतिहास-7
सुप्रीम कोर्ट ने दिया, बाबरी ...
संसार की सर्वश्रेष्ठ महिला हज़रत ...
इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम का ...

 
user comment