Hindi
Wednesday 24th of April 2024
0
نفر 0

हक़ निभाना मेरे हुसैन का है,

हक़ निभाना मेरे हुसैन का है,



हक़ निभाना मेरे हुसैन का है,
दिल ठिकाना मेरे हुसैन का है।

 


 जिसके साये में कायनात है सब,
ऐसा नाना मेरे हुसैन का है।

 


 जबसे घर में मेरे सजे है अलम,
आना-जाना मेरे हुसैन का है।

 


 उग रहा है जो वादे क़र्बोबला,
वो दाना-दाना मेरे हुसैन का है।

 


 जिस जगह हूर बनाये जाते है,
कारखाना मेरे हुसैन का है।

 


 तुम जिसे आसमाँ समझते हो,
वो सामेयाना मेरे हुसैन का है।

 


 ये जो काबा है तुम न समझोगे,
घर पुराना मेरे हुसैन का है।

 


 रोज़ पड़ता हूँ सूरए रहमान,
ये तराना मेरे हुसैन का है।

 


 सिर्फ आसुर तक नही मेहदूद,
हर ज़माना मेरे हुसैन का है।

 


 बोली ज़ोहरा ये अश्क़ दो मुझको,
ये खज़ाना मेरे हुसैन का है।

0
0% (نفر 0)
 
نظر شما در مورد این مطلب ؟
 
امتیاز شما به این مطلب ؟
اشتراک گذاری در شبکه های اجتماعی:

latest article

कर्बला में इमाम हुसैन ...
जो शख्स शहे दी का अज़ादार नही है
इमाम सज्जाद अलैहिस्सलाम का ...
पाक मन
मुहाफ़िज़े करबला इमाम सज्जाद ...
इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम की शहादत
पैगम्बर अकरम (स.) का पैमाने बरादरी
मासूमाऐ क़ुम जनाबे फातेमा बिन्ते ...
इमाम मूसा काज़िम (अ.ह.) के राजनीतिक ...
पैग़म्बरे इस्लाम स.अ. की वफ़ात

 
user comment