Hindi
Wednesday 28th of February 2024
0
نفر 0

आशीषो को असंख्य होना 6

आशीषो को असंख्य होना 6

लेखक: आयतुल्लाह हुसैन अनसारियान

किताब का नाम: तोबा आग़ोश

 

ऊपरी ब्राह्मांड के अंतरिक्ष और प्रकाश प्रदान करने द्वारा की गई सेवाओ, परिसंचरण, अवशोषण और आकर्षण, और मानव जीवन मे उतार चढ़ाव, और उसके अधिकांश तत्व इस प्रकार है कि यदि हम सितारो से घिरे हुए आकाश को तीन सौ सितारे प्रति मिनट गणना करें तो इन सितारो की दिन और रात्रि गणना करने हेतु 3500 वर्ष की आवश्यकता होगी, क्योकि आज तक रेंज खोजक कैमरो द्वारा सितारो की संख्या एक हज़ार मिल्यन से अधिक का अनुमान लगाया गया है, उनमे एक महत्वहीन दाने के रूप मे हमारी पृथ्वी है, यह कहना उचित है कि मनुष्य सितारो की गणना करने मे असम्क्ष है।

अंतरिक्ष का फैलाव इतना है कि एक छोर से दूसरे छोर तक पहुचने मे पाँच लाख नूरी साल (प्रकाशीय वर्ष) का समय लगता है।

सूर्य और सौर प्रणाली 400 किलोमीटर प्रति सेकंण्ड की गति से 20 करोड़ वर्षो मे अपने केंद्र का एक चक्कर लगाता है।

ब्राह्मांड की अद्भुत प्रणाली और पृथ्वी पर उसका गहरा प्रभाव, और उसे प्रणीयो के जीवन हेतु विशेष रूप से मानव जीवन के लिए तैयार किया है, समझना आसान नही है। पानी की प्रत्येक बूंद जो व्यक्ति पीता है वह हज़ारो पशुओ के जीवन के लिए उपयुक्त है, एक घन मिलीलीटर रक्त 7500 सफ़ेद ग्लोबुलेस (कोशिकाए) और 5000000 लाल ग्लोबुलेस पर आधारित होता है।[1]

पवित्र क़ुरआन, जो कि एक किताब के रूप मे शताब्दीयो पूर्व ईश्वर दूत (पैगंम्बर) के उज्जवल ह्रदय पर उतरी, हक़ीक़तो को जिस प्रकार है उसी प्रकार बताया और उन हक़ीक़तो मे से एक तत्थ यह है कि परमात्मा की आशीषो को अगणनीय जानता है।

وَإِن تَعُدُّوا نِعْمَةَ اللَّهِ لاَ تُحْصُوهَا إِنَّ اللَّهَ لَغَفُورٌ رَحِيمٌ

वइन तउद्दू नेमतिल्लाहे ला तहसूहा इन्नल्लाहा लग़फ़ूरुर्रहीम[2]

यदि परमेश्वर की आशीषो की गणना करना चाहो, तो गणना करने की शक्ति नही रखते, अल्लाह दया एंव क्षमा करने वाला है।



[1] गन्जीनेहाए दानिश (ज्ञान के ख़ज़ाने), पेज 927

[2] सुरए नहल 16, आयत 18

0
0% (نفر 0)
 
نظر شما در مورد این مطلب ؟
 
امتیاز شما به این مطلب ؟
اشتراک گذاری در شبکه های اجتماعی:

latest article

क़ुरआन और इल्म
सलाह व मशवरा
ईदे ग़दीर
इस्लाम और सेक्योलरिज़्म
जनाब अब्बास अलैहिस्सलाम का ...
इमाम हुसैन(अ)का अंतिम निर्णय
इमाम हुसैन(अ)के क़ियाम की वजह
पैगम्बरे इस्लाम हज़रत मोहम्मद ...
हज़रत ज़ैनब सलामुल्लाह अलैहा
दुआए तवस्सुल

 
user comment