Hindi
Thursday 29th of February 2024
0
نفر 0

कुमैल को अमीरुल मोमेनीन (अ.स.) की वसीयत 9

कुमैल को अमीरुल मोमेनीन (अ.स.) की वसीयत 9

पुस्तक का नामः दुआए कुमैल का वर्णन

लेखकः आयतुल्लाह अनसारियान

 

हे कुमैल, विलायत तथा मित्रता के माध्यम से स्वयं को बचाओ ताकि शैतान तुम्हारे धन एवं संतान मे भाग न ले।

हे कुमैल, तुम्हारे पाप निश्चित रूप से पुण्यो से अधिक, परमात्मा के प्रति लापरवाही लगन से अधिक, तथा परमात्मा की अशीष तुम्हारे कार्यो से अधिक है।

हे कुमैल, तुम ईश्वर की आशीष से बाहर नही हो, जबकि तुम को आफ़ीयत प्रदान की है (अर्थात यह सभी अशीषे ईश्वर की आफ़ीयत है) इस आधार पर किसी भी समय ईश्वर की प्रशन्सा, उसके धन्यवाद (शुक्र) करने मे तथा उसको पवित्र जानने मे और उसको याद करने मे लापरवाही न करो।

हे कुमैल, प्रयत्न करो कि तुम उन व्यक्तियो मे से न हो जिनके संमबंध मे ईश्वर कहता हैः (उन्होने ईश्वर को भुला दिया है, तो ईश्वर ने स्वयं उनको भुला दिया[१]) उनकी ओर विश्वासघात का संकेत किया गया है बस वो लोग विश्वासघाती है।

जारी



[१]  نَسُوا أللہَ فَأنسَاھُم أنفُسَھُم أُولَئِکَ ھُمُ الفَاسِقُونَ

नसुल्लाहा फ़अनसाहुम अनफ़ोसहुम ऊलाएका होमुल फ़ासेक़ून (सुरए हश्र 59, छंद 19)

0
0% (نفر 0)
 
نظر شما در مورد این مطلب ؟
 
امتیاز شما به این مطلب ؟
اشتراک گذاری در شبکه های اجتماعی:

latest article

क्या है मौत आने का राज़
क़ुरआन और इल्म
सलाह व मशवरा
ईदे ग़दीर
इस्लाम और सेक्योलरिज़्म
जनाब अब्बास अलैहिस्सलाम का ...
इमाम हुसैन(अ)का अंतिम निर्णय
इमाम हुसैन(अ)के क़ियाम की वजह
पैगम्बरे इस्लाम हज़रत मोहम्मद ...
हज़रत ज़ैनब सलामुल्लाह अलैहा

 
user comment