Hindi
Sunday 3rd of March 2024
0
نفر 0

अमरीकी कंपनी एचपी के विरुद्ध अमरीका में प्रदर्शन

अमरीका में मानवाधिकार के कुछ कार्यकर्ताओं ने ज़ायोनी शासन की एचपी कंपनी के साथ वॉशिंग्टन के सहयोग पर आपत्ति स्वरूप प्रदर्शन किया है। प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार दसियों युद्ध विरोधियों और ज़ायोनी शासन के हाथों फ़िलिस्तीन के अतिग्रहण के विरोधियों ने वॉशिंग्टन में एक व्यस्त शॉपिंग सेंटर में एकत्रित हो कर फ़िलिस्तीन का अतिग्रहण समाप्त किए जाने की मांग की।
अमरीकी कंपनी एचपी के विरुद्ध अमरीका में प्रदर्शन

अमरीका में मानवाधिकार के कुछ कार्यकर्ताओं ने ज़ायोनी शासन की एचपी कंपनी के साथ वॉशिंग्टन के सहयोग पर आपत्ति स्वरूप प्रदर्शन किया है।
 
 
 
प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार दसियों युद्ध विरोधियों और ज़ायोनी शासन के हाथों फ़िलिस्तीन के अतिग्रहण के विरोधियों ने वॉशिंग्टन में एक व्यस्त शॉपिंग सेंटर में एकत्रित हो कर फ़िलिस्तीन का अतिग्रहण समाप्त किए जाने की मांग की। प्रदर्शनकारियों ने एचपी कंपनी की गतिविधियों और इसके द्वारा फ़िलिस्तीनी नागरिकों की घेराबंदी में सहायता के कारण उसकी कड़ी आलोचना की और उसके विरुद्ध नारे लगाए। एक प्रदर्शनकारी ने बताया कि हम इस लिए इकट्ठा हुए हैं ताकि संसार को यह बता सकें कि पश्चिमी तट में इस्राईल भयंकर दमन कर रहा है, चेक पोस्टों पर अधिकतर बीएएसएल नामक बायोमैट्रिक इलेक्ट्रिक सिस्टम लगे हुए हैं जो वहां से गुज़रने वाले फ़िलिस्तीनी युवाओं की पहचान करते हैं।
 
 
 
प्रदर्शनकारी ने इस बात का उल्लेख करते हुए कि एचपी कंपनी इस सिस्टम का उत्पादन करके फ़िलिस्तीनी जनता को अधिक से अधिक नियंत्रित किए जाने में सहभागी है, कहा कि ज़ायोनी शासन को इस प्रकार की तकनीकी सहायताएं उपलब्ध कराना, उसके अपार्थाइड या जातीय भेदभाव में सहायता करने के समान है। ज्ञात रहे कि एचपी सूचना व प्रोद्योगिकी के क्षेत्र में विश्व की सबसे बड़ी कंपनियों में से एक है और संसार के लगभग सभी देशों में सक्रिय है। (HN)


source : irib.ir
0
0% (نفر 0)
 
نظر شما در مورد این مطلب ؟
 
امتیاز شما به این مطلب ؟
اشتراک گذاری در شبکه های اجتماعی:

latest article

आतंकवाद की मदद करने वालों को ही ...
अमेरिका अपने रचाए षणयंत्रों में ...
यमन सहित 3 अफ़्रीकी देशों में लाखों ...
शेख समलान ने दी जेल से बधाई
सुरक्षा व सैन्य केंद्रों का ...
इस्राईली राष्ट्रपति की भारत ...
सऊदी अरब और इस्राईल के संबंधों का ...
अफ़ग़ानिस्तान में तीन खरब डाॅलर ...
अरब सरकारें फिलिस्तीन को बेच कर ...
रोहिंगया मुसलमानों के नमाज़ ...

 
user comment