Hindi
Friday 1st of March 2024
0
نفر 0

हज़रत दाऊद अ. और हकीम लुक़मान की बातचीत

एक दिन हज़रत दाऊद अलैहिस्सलाम कवच बना रहे थे कि उनके पास हकीम लुक़मान पहुंच गए। हकीम लुक़मान उनके पास ख़ामोशी से बैठ कर हज़रत दाउद को देखने लगे। काम ख़त्म होने पर हज़रत दाउद ने कहाः कितना अच्छा कवच है! सौ तलवारों का मुक़ाबला कर सकता है। उसके बाद उन्होंने हज़रत लुक़मान को देखते हुए पूछाः जानते हैं क्या है? लुक़मान हकीम ने कहाः जी हां। हज़रत दाऊद ने कहाः अगर जानते हैं तो बताएं? हकीम लुक़मान ने कहाः लोहे का लिबास जंगजुओं के लिए ताकि ज़ख़्मों से बचे रहें। हज़रत दाऊद ने कहाः यह बात आपने किससे सुनी, किसने आपको बताया? हकीम लुक़मान ने कहाः मेरे उस्ताद ने। हज़रत दाऊद ने कहाः आपका उस्ताद कौन है? हकीम लुक़मान ने जवाब दियाः मेरी ख़ामोशी।

0
0% (نفر 0)
 
نظر شما در مورد این مطلب ؟
 
امتیاز شما به این مطلب ؟
اشتراک گذاری در شبکه های اجتماعی:

latest article

दस मोहर्रम के सायंकाल को दो भाईयो ...
अमेरिका-इस्राईल मुर्दाबाद के ...
चिकित्सक 10
लोगों के बीच सुलह सफ़ाई कराने का ...
यमन में सऊदी युद्धक विमानों की ...
कफ़न चोर की पश्चाताप 1
वरिष्ठ नेता ने जारी किया पर्यावरण ...
केजरीवाल की जनता से मन की बात, काम ...
मर्द की ब निस्बत औरत की मीरास आधी ...
हदीसो के उजाले मे पश्चाताप 8

 
user comment