Hindi
Thursday 18th of April 2024
0
نفر 0

धार्मिक प्रवचनों को केवल कहानियों की तरह न सुने

धार्मिक प्रवचनों को केवल कहानियों की तरह न सुने

इंसान को जीवन में यदि कुछ पाना है तो उसके लिए मेहनत अवश्य करनी होती है लेकिन इन्सान की इच्छा हमेशा यही रही है की उसे कम या बिना मेहनत के सबकुछ मिल जाए |अपनी कम मेहनत और अधिक लाभ की इच्छा को पूरी करने के लिए इन्सान शार्टकट के रास्ते तलाश करने लगता है | कभी छात्र और छात्राएं परीक्षा में नक़ल के रास्ते तलाशने लगते हैं और कभी अपना काम आसानी से करवाने के लिए लोग दफ्तरों में तो रिश्वत खोरों की तलाश करने लगते हैं | कभी हम लाटरी ,इनाम जैसे ईमेल और एस एम् एस के शिकार हो जाते हैं |संक्षेप में कहें तो हमारी यह शार्टकट की सोंच ही भ्रष्टाचार की जननी है।


इसी भ्रष्टाचार को रोकने के लिए धर्म बने हैं जिसमे हमें सही और गलत की पहचान बताई गयी, पाप और पुण्य के बारे में बताया| हमें अच्छे संस्कार देने की कोशिश धर्म के द्वारा हमेशा से की जाती रही है।

इंसान का स्वभाव यह है कि जो काम उसे कष्ट न दे ,ऐश ओ आराम का जरिया बने उसी और भागता है| धर्म के बताए रास्ते में मेहनत है, कष्ट है इसी कारण हमें धर्म तो पसंद है लेकिन धर्म के बताए रास्ते पसंद नहीं आते | हम मंदिरों और मस्जिदों में जाकर, प्रसाद और चढ़ावे की रिश्वत देने की बात करके ,बिना मेहनत बहुत कुछ पाने की प्रार्थना करना तो पसंद करते हैं लेकिन उसी भगवन, ईश्वर के बताये रास्ते पे चलना पसंद नहीं करते।

यही कारण है की हम दोस्तों के बीच बैठ के ,ईमानदारी, सत्यवचन, संस्कारों की बात कर के भगवान के अवतारों, पैगम्बरों के किस्से बयान कर के खुद को बड़ा धार्मिक तो साबित करते हैं लेकिन उन बैटन की अहमियत हमारे जीवन में कहानियों से अधिक कुछ नहीं होती | इस ब्लॉगजगत की ही बात ले लें ऐसे बहुत से ब्लॉग हैं जो संस्कारों की बातें करते हैं ,समाज के हित की बातें करते हैं पढने वाले उनकी तारीफ भी करते हैं लेकिन ऐसे ब्लॉग को पढने में मज़ा नहीं आता | करीबी दोस्तों में बैठते हैं तो कहते हैं भाई बात तो सही कहता है है लेकिन मज़ा नहीं आता रोज़ रोज़ वही संस्कार की बातें सुन के | मज़ा तो आता है उन ब्लॉग पे जहां किसी की टांग खींची जाए,कुछ गरमा गरम झगडे हो रहे हों या फिर शान और शौकत की बात हो।

हम खुद को धार्मिक साबित करने के लिए अपने धर्म के बताये रास्तों पे चलने की जगह धर्म के नाम पे झगडा करना अधिक पसंद करते हैं |हम सत्यवादी लोगो की बातें भी करते हैं ,त्योगारों और ख़ास जगहों पे उनको नमन भी करते हैं लेकिन अपने बच्चों को पूरा इमानदार और सत्यवादी नहीं बनाना चाहते | होता यही है की जीवन में खुद को धार्मिक माने वाले इंसान का भी जब खुद के धर्म के द्वारा दिखाए रास्तों पे चलने का समय आता है तो यह जानते और समझते हुए की इन अवतारों और पैगम्बरों का बताया तरीका ही सही है हम उन रास्तों से अलग हट के अपने फायदे का रास्ता चुन लेते हैं।

इंसान की यही गलती इस समाज में फैले भ्रष्टाचार की जड़ है और इसी के गलती के कारन आज का इंसान अपना सुकून और चैन खोता जा रहा है।

 

0
0% (نفر 0)
 
نظر شما در مورد این مطلب ؟
 
امتیاز شما به این مطلب ؟
اشتراک گذاری در شبکه های اجتماعی:

latest article

उलूमे क़ुरआन का इतिहास
क़ुरआने मजीद और अख़लाक़ी तरबीयत
दर्द नाक हादसों का फ़लसफ़ा
सिरात व मिज़ान
बक़रीद के महीने के मुख्तसर आमाल
क़ानूनी ख़ला का वुजूद नही है
शिया मुफ़स्सेरीन और उनके ...
आलमे बरज़ख
क़ौमी व नस्ली बरतरी की नफ़ी
एतेमाद व सबाते क़दम

 
user comment