Hindi
Thursday 25th of July 2024
0
نفر 0

हज़रत इमाम महदी अलैहिस्सलाम के ज़ुहूर की निशानियाँ

इमाम महदी अलैहिस्सलाम के ज़ुहूर से पहले बहुत सी निशानियां ज़ाहिर होंगी। जब आपका ज़ुहूर होगा तो पूरब व पश्चिम पर आपकी हुकूमत होगी। ज़मीन अपने सारे ख़ज़ाने उगल देगी। दुनिया की कोई ज़मीन ऐसी बाक़ी न रहेगी, जिसको आप आबाद न कर दें।
हज़रत इमाम महदी अलैहिस्सलाम के ज़ुहूर की निशानियाँ

 इमाम महदी अलैहिस्सलाम के ज़ुहूर से पहले बहुत सी निशानियां ज़ाहिर होंगी। जब आपका ज़ुहूर होगा तो पूरब व पश्चिम पर आपकी हुकूमत होगी। ज़मीन अपने सारे ख़ज़ाने उगल देगी। दुनिया की कोई ज़मीन ऐसी बाक़ी न रहेगी, जिसको आप आबाद न कर दें।


विलायत पोर्टलः इमाम महदी अलैहिस्सलाम के ज़ुहूर से पहले बहुत सी निशानियां ज़ाहिर होंगी। जब आपका ज़ुहूर होगा तो पूरब व पश्चिम पर आपकी हुकूमत होगी। ज़मीन अपने सारे ख़ज़ाने उगल देगी। दुनिया की कोई ज़मीन ऐसी बाक़ी न रहेगी, जिसको आप आबाद न कर दें।
आपके ज़ुहूर की कुछ निशानियाँ इस तरह हैं।
(1) औरतें मर्दों के समान होंगी।
(2) मर्द औरतों जैसे होंगे।
(3) औरतें घोड़े, साईकिलों, स्कूटरों, कारों आदि पर सवारी करने लगेगीं।
(4) नमाज़ जान बुझ कर क़ज़ा की जाने लगेगी।
(5) लोग नफ़सानी ख्वाहिशात (कामवासना) का आज्ञापालन करने लगेंगे।
(6) क़त्ल करना मामूली चीज़ समझा जायेगा।
(7) सूद व ब्याज का ज़ोर होगा।
(8) ज़िना (बलात्कार) आम होगा।
(9) अच्छी अच्छी इमारतें बहुत बनेगीं।
(10) झूठ बोलना वैध व जाएज़ समझा जायेगा।
(11) रिश्वत आम होगी।
(12) दीन को दुनिया के बदले बेचा जायेगा।
(13) रिश्तेदारी कि परवाह न की जाएगी।
(15) बेवक़ूफ़ों को हाकिम बनाया जायेगा।
(16) संयम को बुज़दिली व कमज़ोरी समझा जायेगा।
(17) ज़ुल्म गर्व के साथ किया जायेगा।
(18) बादशाह व हाकिम भ्रष्ट व गुनहगार होंगे।
(19) वज़ीर झूठे होंगे।
(20) अमानतदार ख़यानत करने वाले होंगे।
(21) क़ुरआन पढ़ने वाले (क़ारी) पापी होंगे।
(22) जुल्म व अत्याचार आम होगा।
(23) तलाक़ बहुत ज़्यादा होगी।
(24) गुनाह और भ्रष्टाचार आम होगें।
(25) धोख़ेबाज़ की गवाही क़ुबूल की जायेगी।
(27) शराब आम होगी।
(28) समलैंगिक्ता का जोर होगा।
(29) सहक़, यानी औरतों औरतों के ज़रिये शहवत की आग बुझायेंगी।
(30) अल्लाह तआला और रसूले इस्लाम सल्लल्लाहो अलैहे व आलिही वसल्लम को माले ग़नीमत समझा जायेगा।
(31) सदक़े व ख़ैरात से नाजायज़ फ़ायदा उठाया जायेगा।
(32) दुष्टों की ज़बान के ख़ौफ़ से अच्छे लोग खांमोश रहेंगें।
(33) सीरिया से सुफ़यानी निकलेगा।
(34) यमन से यमानी बरामद होगा।
(35) मक्के और मदीने के बीच मक़ामे लुद की ज़मीन धंस जायेगी।
(36) रुक्न और मक़ाम के बीच आले मुहम्मद (स.) की एक बड़ी हस्ती को क़त्ल किया जाएगा।
(37) 15 शाबान को सूरज गहेन और इसी माह के आख़िर में चाँद गहेन होगा।


source : wilayat.in
0
0% (نفر 0)
 
نظر شما در مورد این مطلب ؟
 
امتیاز شما به این مطلب ؟
اشتراک گذاری در شبکه های اجتماعی:

latest article

न वह जिस्म रखता है और न ही दिखाई ...
तहाविया सम्प्रदाय
मआद की दलीलें रौशन हैं
रोज़े आशूरा के आमाल
आलमे बरज़ख
बेनियाज़ी
अरफ़ा, दुआ और इबादत का दिन
पारिभाषा में शिया किसे कहते हैं।
इस्लाम शान्ति पसन्द है
दीन क्या है?

 
user comment