Hindi
Monday 15th of April 2024
0
نفر 0

दस मोहर्रम के सायंकाल को दो भाईयो की पश्चाताप 1

दस मोहर्रम के सायंकाल को दो भाईयो की पश्चाताप 1

पुस्तक का नामः पश्चाताप दया की आलंग्न

लेखकः आयतुल्ला हुसैन अंसारीयान

 

इस्लाम मे पश्चाताप का अर्थ है पापी का अपने पापो पर पछतावा करना, अपने किए हुए पापो से शर्मिंदा होकर ईश्वर की ओर पलट जाना, यह मार्ग मानव के लिए सदैव खुला हुआ है क्योकि दिव्य पाठशाला उम्मीद तथा आशा का धर्म है, प्रेम दया का सोत्र तथा इश्क़ एंव वफ़ा का केंद्र है। इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम पूर्णरूप से ईश्वर की दया के दर्पण है प्राणीयो, मित्रो तथा शत्रुओ पर भी दया इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम का अस्तित्व प्रेम और मुहब्बत की प्रतिमा था आपकी वार्तालाप और चरित्र मुहब्बत से पूर्ण था, जब से यज़ीदी सेना आप के साथ हुई उसी समय से आप का यह प्रयास रहा कि उनका मार्गदर्शन करे, और वह लोग सीधे रास्ता का च्यन कर लें, जहां तक सम्भव था वहा तक आपने उनका मार्गदर्शन करते रहे।

युद्ध से पहले प्रयास किया, कुरूक्षेत्र मे अपनी वार्तालाप द्वारा प्रयास किया, जिसका परिणाम यह निकला कि जिन लोगो मे हिदायत की क्षमता थी उनकी हिदायत करके उनको नर्क से निकाल कर स्वर्ग मे जाने का हक़दार बना दिया।

 

जारी

0
0% (نفر 0)
 
نظر شما در مورد این مطلب ؟
 
امتیاز شما به این مطلب ؟
اشتراک گذاری در شبکه های اجتماعی:

latest article

शिया मुसलमानों की मस्जिदों पर ...
हज़रत अली की शहादत की वर्षगांठ पर ...
क़तर में तालेबान तथा ...
एक यहूदी किशोर की पश्चाताप
21 रमज़ान, हज़रत अली की शहादत की ...
इस्लाम धर्म में विरासत का क़ानून
सूरे रअद का की तफसीर 2
तीन पश्चातापी मुसलमान 2
हिज़्बुल्लाह कुछ मिनटों में कर ...
आले ख़लीफ़ा शासन ने लगाया बहरैन ...

 
user comment