Hindi
Thursday 18th of April 2024
0
نفر 0

वहाबी मुफ़्ती ने की अमरीका से सीरिया में थल सेना भेजने की मांग।

जार्डन के वहाबी प्रचारक ने अमरीका की सीरिया में ज़मीनी हस्तक्षेप का विरोध करने के कारण आलोचना की और जो तुर्की ने किया उसे धूर्ततापूर्ण कार्यवाही बताया। अल आलम टीवी चैनल की रिपोर्ट के अनुसार, अबू मुहम्मद अलमक़दिसी के नाम से प्रसिद्ध वहाबी धर्म गुरु व प्रचारक आसिम ताहिर अलबरक़ावी ने ट्वीट में अमरीका से सीरिया में
वहाबी मुफ़्ती ने की अमरीका से सीरिया में थल सेना भेजने की मांग।

जार्डन के वहाबी प्रचारक ने अमरीका की सीरिया में ज़मीनी हस्तक्षेप का विरोध करने के कारण आलोचना की और जो तुर्की ने किया उसे धूर्ततापूर्ण कार्यवाही बताया।
अल आलम टीवी चैनल की रिपोर्ट के अनुसार, अबू मुहम्मद अलमक़दिसी के नाम से प्रसिद्ध वहाबी धर्म गुरु व प्रचारक आसिम ताहिर अलबरक़ावी ने ट्वीट में अमरीका से सीरिया में थल सेना भेजने की मांग की है।
सीएनएन की रिपोर्ट के अनुसार, उन्होने इसी प्रकार लिखा कि वह लोग जो ईश्वर के मार्ग में युद्ध करते हैं वह डॉलर के लिए युद्ध नहीं करते। मक़दिसी को 2010 में गिरफ़्तार कर लिया गया था और उन्हें जार्डन की अदालत ने चार वर्ष के जेल की सज़ा सुनाई थी।
उन पर अफ़ग़ानिस्तान में सक्रिय तालेबान के लिए ज़कात का पैसा एकत्रित करने और तालेबान के लिए लड़ाके भर्ती करने का आरोप था। मक़दिसी ने जेल में दाइश और नुस्रा फ़्रंट के बीच टकराव समाप्त करने की अपील की थी और इस संबंध में अयमन ज़वाहिरी के बयान का समर्थन किया था।
उन्होंने दाइश के आतंकियों से मांग की थी कि वह नुस्रा फ़्रंट के कमान्डर अबू मुहम्मद जौलानी के साथ हो जाएं। मक़दिसी ने इसी के साथ दाइश के विरुद्ध अमरीका और उसके घटकों के हवाई हमलों को इस्लाम और इराक़ तथा सीरिया में मुसलमानों व इस्लाम के विरुद्ध क्रूसेड वाॅर की संज्ञा दी थी।


source : abna24
0
0% (نفر 0)
 
نظر شما در مورد این مطلب ؟
 
امتیاز شما به این مطلب ؟
اشتراک گذاری در شبکه های اجتماعی:

latest article

ईरानी खुफ़िया एजेंसी ने आतंकी ...
इस्लाम में पड़ोसी के अधिकार
शबे कद़र के मुखतसर आमाल
आशीषो मे फिजूलखर्ची अपव्यय है 3
बच्चों के लड़ाई झगड़े को कैसे ...
नेपालः निरंतर बढ़ती मृतकों की ...
बुर्क़े पर प्रतिबंध, पहनने पर ...
अल्ताफ़ हुसैन को 81 साल क़ैद की ...
शिया मुसलमानों की मस्जिदों पर ...
हज़रत अली की शहादत की वर्षगांठ पर ...

 
user comment